Monday, March 16, 2009

सोच को अपनी बदल कर देख तू




गीत तेरे, जब से हम गाने लगे
भीड़ में, सबको नज़र आने लगे

सोच को अपनी बदल कर देख तू
मन तेरा गर यार, मुरझाने लगे

बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी
पूछते जब लोग, तो ताने लगे

वो मेहरबां है, तभी करना यकीं
जब बिना मांगे ही, सब पाने लगे

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मिरे दुश्मन, मुझे भाने लगे

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे

खार तेरे पाँव में 'नीरज' चुभे
नीर मेरे नैन, बरसाने लगे

74 comments:

रचना said...

as always nice composioton

Mumukshh Ki Rachanain said...

भाई नीरज जी,
अपने भी क्या खूब लिखा है..............

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे.

कितना खूबसूरत संयोग है की मैंने भी एक "सत्य" की टिर्री (भाई ज्ञान जी के ब्लॉग की टिर्री की तरह) अपने ब्लॉग पर आज ही डाली है, अपने विचारों से अवगत कराएं .

चन्द्र मोहन गुप्त

neeshoo said...

bahut sunder sir ji . mja a gya padh kar . badahi

शोभित जैन said...

बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी,
पूछते जब लोग, तो ताने लगे.....
सच बयानी की गुजारिश जब हुई,
चीखते सब लोग हकलाने लगे.....

बहुत खूब नीरज जी... आपकी ग़ज़ल ने सुबह को खुशनुमा बना दिया....

Shiv Kumar Mishra said...

शानदार गजल है. हर बार की तरह जीने की राह दिखाती हुई.

Vijay Kumar Sappatti said...

aadarniya neeraj ji [ aur mere guru ji ].

aap itni dilkash gazalen likh lete hai ki mujhe shabd nahi sujhte ki main kya tareef me likhu ..

phir bhi , doosara sher , mujhe poori gazal me accha laga ..

" soch teri badal ke dekhiye , man tera gar yaar , murjhaane lage "
wah ji wah ..
padh kar zindagi ki khuraakh mil gayi ..

aapko naman aur der saari badhai ..

aapka
vijay

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत खूब बहुत बढ़िया ..सब शेर बहुत अच्छे हैं पर जो सबसे अधिक पसंद आया
प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे

पंकज सुबीर said...

नीरज जी आपने आज के दौर के दोमुंहे चरित्रों पर धर धर के प्रहार किये हैं । ये तेवर बनाइये रखिये । जिस में तेवर नहीं हो वो सहित्‍य नहीं होता । सारे शेर ही तेवरों में हैं । एक हकलाने वाला शेर दुष्‍यंत की याद दिला रहा है । शुभ

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

भई वाह्! नीरज जी, कितनी सुन्दर तथा आनन्ददायक गजल लिखी है......बधाई और आभार दोनो स्वीकार करें.

दिगम्बर नासवा said...

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे.
खार तेरे पाँव में "नीरज" चुभे
नीर मेरे नैन बरसाने लगे
नीरज जी
आपका अंदाज खूब है. हर शेर में जिंदगी की खुशबू नज़र आती है, जिन्दादिली से लिखी ग़ज़ल है मज़ा आ गया पढ़ कर.

अंकित "सफ़र" said...

नमस्कार नीरज जी,
बहुत उम्दा ग़ज़ल है.............
सारे शेर एक से बड कर एक हैं.

दर्पण साह 'दर्शन' said...

sach bayani ki guzarish jab hui,
cheekhte sab log haklane lage...


...behterien....


waise to poori ghazal par 2 3 6 7 are ...marvellous!

"अर्श" said...

वाह नीरज जी वाह बहोत ही खुबसूरत ,उम्दा लिखा है आपने... सोच को अपनी बदल कर देख तू... क्या बात कही साहिब अपने .. हाँ आपने सही कहा के गुरु जी से मुलाक़ात होना मेरे पिछले जनम का ही कोई पुण्य है ...
ढेरो बधाई और आभार..

अर्श

vandana said...

bahut gahre bhav liye sher...........aapko kuch kehna to chirag ko roshni dikhane ke barabar hai.

कंचन सिंह चौहान said...

तीसरा शेर विशेष भाया......! गज़ल तो आप मुकम्मल ही लिखते हैं...!

Udan Tashtari said...

बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी,
पूछते जब लोग, तो ताने लगे.


--वाह बाह!! हर शेर अपने आप में पूरा है भई!! आनन्द आ लिया पूरी गज़ल पढ़कर. बहुत खूब्ब!!!

गौतम राजरिशी said...

नीरज जी को पाय लागू....."बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी/पूछते जब लोग, तो ताने लगे"
आहहाहाहा.....
यूं तो हमेशा की तरह सारे के सारे शेर एक पे एक
लेकिन सच बयानी वाला तो उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़

प्रीति टेलर said...

ati sundar bhavuk panktiyan ...

mehek said...

सच बयानी की गुजारिश जब हुई

चीखते सब लोग, हकलाने लगे



खार तेरे पाँव में 'नीरज' चुभे

नीर मेरे नैन, बरसाने लगे

waah behad sunder badhai

mamta said...

सभी एक से बढ़कर एक ।

Mired Mirage said...

सदा की तरह सुन्दर!
घुघूती बासूती

विनय said...

पारदर्शी पानी की तरह, बहुत सुन्दर!

---
गुलाबी कोंपलें

अर्चना said...

gajal ka dusara para kisi awasaad grast mn ke liye prerana ki tarah hai. bahut sundar.

poemsnpuja said...

जिंदगी से जुडी हुयी, बेहद खूबसूरत ग़ज़ल.

Dr.Bhawna said...

Jitni tareef ki jaye kam hai eak se badhkar eak...aabhar..

kumar Dheeraj said...

नीरज जी बेरतरीन नज्म आपने पेश किया है । पूरी नज्म लाजबाव है । इसी तरह भेजिए औऱ पाकिस्तान पर लिखे हमारे लेख की प्रतिक्रिया भेजिए धन्यवाद

MUFLIS said...

soch ko apni badal kar dekh tu
mn tera gar yaar murjhane lage...

waah ! waah !!
huzoor , ek-dm nafees lehjaa aur
steek tevar....
ek-ek sher sach ko byaan karta hai
badhaaaaeeee.....
---MUFLIS---

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

बहोत अच्छे नीरज भाई ..
इसी तरह लिखा कीजिये
- लावण्या

राकेश said...

bahut achha bayan kiya hai khayalon ko, gahari sonch ka seedha aaina....likahte rakhiye...

SWAPN said...

wah wah wah neeraj ji sabhi sher lajawaab,

kiski main tareef karun
kisko karun nazar-andaz
ek se badh kar ek sher hai
lajawaab jinka andaaz

bahut khoob neeraj, saman baandh diya.dheron badhai

Dr. Amar Jyoti said...

'सोच को अपनी…'
'प्यार अपनों ने…'
'सच बयानी की गुज़ारिश…'
बेहतरीन! एक से बढ़ कर एक।
बधाई।

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

गीत तेरे जब से हम गाने लगे है
भीड़ में सबको नजर आने लगे है
नीरज जी
बहुत ही सुन्दर भावाभिव्यक्ति है आनंद आ गया पढ़कर.आभार.

डॉ .अनुराग said...

सच बयानी वाला शेर खासा अच्छा है.....कभी मुंबई शहर पर लिखिए नीरज जी...अपने घर को यद् करते हुए....

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत ही नायाब रचना.

रामराम.

विक्रांत बेशर्मा said...

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे.


बहुत खूब नीरज जी !!!!!!!!!!

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे
mujh ko to yah haqiqat lagti hai

ओम आर्य said...

मुझे भी बताइये, किनके गीत गा के आप नजर में आ रहे हैं?

ज्ञानदत्त । GD Pandey said...

सुन्दर सलाह नीरज जी। मन मुरझा रहा है। सोच बदल कर देखता हूं।

मीत said...

हद है ! चरण किधर हैं सरकार ? आप का जवाब नहीं !!

Manish Kumar said...

bahut achche, ek baar phir anand aaya padh kar

अनिल कान्त : said...

bahut hi khoobsurat ...padhkar maja aa gaya

राज भाटिय़ा said...

नीरज जी बहुत ही सुंदर गजल.
धन्यवाद

सुशील कुमार छौक्कर said...

आप बहुत गहरी बातें आसान शब्दों से कह जाते है। हर शेर लाजवाब है।
बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी
पूछते जब लोग, तो ताने लगे

वाह क्या बात है।

shyam kori 'uday' said...

गजल पढकर लगा कि आपने हाथ उठाकर आसमान छू लिया है, बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति !!!!!!

रश्मि प्रभा said...

प्यार अपनों ने किया इस तरह कि दुश्मन भाने लगे.....
सच कहा,बहुत अच्छा लगा

venus kesari said...

नीरज जी
भरपूर गजल कही आपने, भाव स्पष्ट और दिल को छूने वाले हैं

आपका वीनस केसरी

गर्दूं-गाफिल said...

वाह नीरज वाह, अय शाह ऐ सुखन
हम लौट कर, तेरी गली आने लगे
रहमत ऐ अल्फाज़, यू ही होती रहे
जो लम्हा तुम से मिले, गाने लगे

Dr. Chandra Kumar Jain said...

बहुत...बहुत....बहुत
सुन्दर....सहज....सार्थक.
======================
शुक्रिया ऐसी सौगात के लिए
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

कुश said...

अपना मन भी कभी मुरझाता है तो सोच बदल लेते है.. आपकी ग़ज़ल अपनी ही बात लगी..

नीरज गोस्वामी said...

Comment received on mail:

From Rahul: Newzealand

Beautiful.....

We really need to change our perception when things don't seem to work as we wish.

I am not really very sure but, I think ..
you wanted to write "aab mere dushman... "

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मिरे दुश्मन, मुझे भाने लगे

Thank you
Love.
-R

नीरज गोस्वामी said...

Comment received on e-mail by Sh.Om Prakash Sapra,Delhi:

neeaj ji
namastey,

a good poem, especially following lines are most impressive and important:-



सच बयानी की गुजारिश जब हुई

चीखते सब लोग, हकलाने लगे


congrats.
-om sapra, delhi-9
9818180932

PREETI BARTHWAL said...

नीरज जी रचना बहुत ही खूब है और साथ में लगा फोटो भी प्यारा है।

महामंत्री - तस्लीम said...

बहुत खूबसूरत गजल कही है आपने, बधाई।

अल्पना वर्मा said...

bahut sundar gazal Neeraj ji,
sabhi sher achchey lagey...
badhayee.

[Mishti ki nayee tasweer achchee lagi.aaj boys ke getup mein hain gudiya rani!]

सीमा रानी said...

soch ko apni badal kar dekh tu
mn tera gar yaar murjhane lage...

wah...wah neeraj ji .tareefon ki is bouchhar men ak boond hamari bhi sweekaren .bahut hi achhi gazal.dhanywad aur badhai ak sath.

Abhishek said...

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मिरे दुश्मन, मुझे भाने लगे
Laajawab rachna.

अनुपम अग्रवाल said...

बेहतरीन रचना..

यह लाईनेँ तो बहुत ही प्रभावशाली हैँ

सच बयानी की गुजारिश जब हुई

चीखते सब लोग हकलाने लगे

Manoshi said...

आप बहुत अच्छा लिखते हैं।

Harkirat Haqeer said...

बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी,
पूछते जब लोग, तो ताने लगे.....Balle ..Balle...!!

सच बयानी की गुजारिश जब हुई,
चीखते सब लोग हकलाने लगे.....Baija Baija ho gayi Niraj ji...tippaniyan ki ktar te lambi hi hoyi ja rahi hai ...bhi sanu vi koi jumle sikha do...???

hem pandey said...

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे.

- आज के सूरमाओं की हकीकत बयान करती पंक्तियाँ.

राकेश खंडेलवाल said...

नीरजजी


गीत तेरे जब से

बस एक शेर मेवं ही पूरा दीवान संजो दिया आपने

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

क्या बात है.

विनीता यशस्वी said...

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे

bahut khub

मोना परसाई "प्रदक्षिणा" said...

पूरी गज़ल शानदार है .

NirjharNeer said...

Neeraj jii
soch rahe the ki kis sher ko kahen ki ye sabse jyada sundar hai..
par har sher apne aap mein doosre se uppar dikhaa......laajavaab
ab tak aapko jitna bhi padha ye rachna man mein utar gayii
bandhai ho is khoobsurat gazal ke liye.
itni saral or sadha huaa ki har shabd khud ko bayan kar raha hai.

wahhhhhhh

मा पलायनम ! said...

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे
बहुत सुन्दर पंक्तियाँ हैं .

संदीप शर्मा Sandeep sharma said...

खुबसूरत रचना...

योगेन्द्र मौदगिल said...

बेहतरीन.... नीरज जी, वाह.

pallavi trivedi said...

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे.

बेहद उम्दा...आनंद आ गया पढ़ कर!

Harshad Jangla said...

Neerajbhai

Bahot khub saab!

-Harshad Jangla
Atlanta, USA

महामंत्री - तस्लीम said...

बहुत ही खूबसूरत गजल।

Mrs. Asha Joglekar said...

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे ।

वाह वाह नीरज जी बेहतरीन ।

Devi Nangrani said...

Neeraj
lekhni ka vistaar vasi hua ja raha hai. kalam ki rawani sailaab ban rahi hi. ek ek sher umda , sach ke aks liye hue

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे.
Bahut badhayi ho
Kalam mein zor aage aur bhi

Devi Nangrani

manu said...

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग, हकलाने लगे.

किता गज़ब ,,,,एक ही शेर में किता बड़ा सच ,,कितनी बड़ी बात,,,

शानदार अभिव्यक्ति,,,