Monday, October 11, 2010

किताबों की दुनिया - 39


जगजीत सिंह जी की गयी एक बहुत मशहूर गज़ल है , शायद आपको याद हो, देर लगी आने में तुमको...उस ग़ज़ल में एक शेर है :-

झूट है सब तारीख हमेशा अपने को दोहराती है
अच्छा मेरा ख़्वाबे-जवानी थोडा सा दोहराए तो

ग़ज़ल के इस शेर में शायर ने इस बात को नकार दिया है के इतिहास अपने आपको दोहराता है...जबकि ये बात झूट नहीं है, सच है...बहुत सारी घटनाएँ जीवन में दुबारा घटित होती हैं. अब आपके साथ हुईं या नहीं मुझे नहीं पता लेकिन मेरे साथ हुई है. जो घटना दिसंबर 2009 में मेरे साथ घटित हुई वो हू बहू फिर से अगस्त 2010 में घटित हो गयी. मैंने अपनी किताबों की दुनिया-20 में इस बात का जिक्र किया है, जो सज्जन उस घटना को वहाँ जा कर न पढ़ना चाहें उनके लिए उसे फिर से यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ.

"शायरी करना तो अभी का शौक है लेकिन शायरी पढना बहुत पुराना.बरसों से अच्छे शायरों को पढता रहा हूँ और ये काम अभी भी बदस्तूर जारी है. इसी शौक की वजह से मैं आपका तारुफ्फ़ नयी नयी किताबों से करवाने का प्रयास करता हूँ. किताबों के आलावा नेट पर भी जहाँ कहीं सम्भावना नज़र आये नज़रें दौड़ाता रहता हूँ. 'अनुभूति' मेरी प्रिय साईट है जिसे 'पूर्णिमा वर्मन' जी चलाती हैं.इस साईट पर हर हफ्ते अंजुमन के तहत नए अशार पढने को मिलते हैं. अपनी इसी खोज के दौरान मैं चंद ऐसी ग़ज़लों से रूबरू हुआ जिन्होंने मुझ पर गहरा असर डाला.

शायर का नाम देखा तो मुझे अनजाना लगा. मुझे अनजान शायरों को पढने में बहुत मजा आता है क्यूंकि आप नहीं जानते की वो कैसे हैं, कैसा लिखते हैं, क्या सोचते हैं याने आपके मन में उनकी कोई पूर्व छवि बनी हुई नहीं होती. आप उन्हें निष्पक्ष हो कर पढ़ते हैं. इसी में मजा आता है. वहीँ अनुभूति की साईट पर उनका परिचय भी दिया हुआ था जिसमें उनकी ग़ज़ल की किताब का जिक्र भी था. अनुभूति से ही उनकी मेल का पता मिला और तुरंत उन्हें पुस्तक भेजने का अनुरोध
कर डाला."

जी हाँ आप ठीक समझे जिस शायर का जिक्र ऊपर किया गया है वो हैं जनाब संजय ग्रोवर साहब और जिस शायर का जिक्र मैं अब करने जा रहा हूँ उनका नाम है जनाब 'अनमोल शुक्ल अनमोल'. तारीख़ ने अपने आपको दोहराया या नहीं बताइए ? संजय जी की जगह अनमोल जी से परिचय हो गया बस ये ही परिवर्तन हुआ. याने अनमोल साहब की शायरी मैंने अनुभूति पर पढ़ी उनसे संपर्क किया और उन्होंने प्रसन्नता पूर्वक अपनी किताब मुझे भेज दी.

बहुत कम शायर होते हैं जो अपने नाम को सार्थक करते हैं, अनमोल जी उनमें से एक हैं. नाम अनमोल और शायरी भी अनमोल. तो आईये हम आज की पोस्ट में उनकी इस अनमोल शायरी का लुत्फ़ उठाते हैं , जिसे उन्होंने अपनी किताब "दरिया डूब गया" में समेटा है.

किसी के प्यार में हस्ती मिटा देना हंसी है क्या ?
वही जानेगा जिसने प्यार की गहराइयाँ जी हैं

अगर कुछ काम अच्छा है तो रखती याद हैं नस्लें
बदन पर अपने गिलहरियों ने जैसे धारियां जी हैं

कोई कुछ भी कहे 'अनमोल' को लेना है इससे क्या
ग़ज़ल में उसने केवल सत्य की बारीकियां जी हैं

हरदोई (उ.प्र) में जन्में अनमोल जी सिविल इंजीनियरिंग हैं और उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग में अभियंता के पद पर कार्यरत हैं. पिछले एक दशक से आप बिजनौर में रह रहे हैं. अनमोल जी की शायरी पढते हुए ये एहसास होता है के वो ग़ज़ल की नज़ाकत और नफ़ासत से भली भांति परिचित हैं. गंगा जमुनी तहजीब का निर्वाह करते हुए हिंदी उर्दू के शब्द सहज रूप से उनकी ग़ज़लों में आये हैं.

कितना पानी रोक लेता होगा उन आँखों का बाँध
जिनको बच्चे का खिलौना बेबसी लगने लगे

हे प्रभो आंधी कोई सारे मुखौटे ले उड़े
जिससे हर इक आदमी फिर आदमी लगने लगे

उसके दिल के ज़ख्म का अंदाज़ होगा क्या भला
बात भी करता है वो तो शायरी लगने लगे

एक कोशिश ये हमेशा ही रही 'अनमोल' की
हो ग़ज़ल उसकी उसकी मगर वो आपकी लगने लगे

जिस शायर की ग़ज़लें पढ़ने वाले को अपनी सी लगती हैं वो ही शायर सही मायने में अवाम का शायर होता है. अनमोल जी अपनी शायरी में अपनी ही नहीं हम सब के सुख दुःख की चर्चा करते हैं और बहुत सहजता से करते हैं. उनकी शायरी आपसी बातचीत की शायरी है जो आप पर हावी नहीं होती आपके हमराह चलती है.

जिस मुफलिस की स्यानी बेटी घर में बैठी हो
उसको तो अपना ही गाँव, गली घर चुभता है

परदेसी ने लिखा है जिसमें, लौट न पाऊँगा
विरहन को उस खत का अक्षर-अक्षर चुभता है

ग़ज़ल की परंपरा यूँ तो बहुत पुरानी है लेकिन इस परम्परा के मूल तत्वों का निर्वाह करते हुए इसमें नए नए प्रयोग करने की एक होड सी लगी हुई है, जो ग़ज़ल को और समृद्ध बनाती हैं. हमारी रोज की बोलचाल के शब्द इसे विधा को आसानी से समझने में बहुत सहायता करते हैं. अनमोल जी ने भी अपनी ग़ज़लों में भी ऐसे अद्भुत प्रयोग किये हैं, मिसाल के तौर पर एक ग़ज़ल के ये शेर पढ़िए...

कोई त्यौहार क्या निर्धनों के लिए
ईद-होली-दिवाली, सभी कैक्टस

देखिये, स्वार्थवश हो रहा आजकल
आदमी के लिए आदमी कैक्टस

उसकी बेरोजगारी का संकेत है
उसके चेहरे पे उगती हुई कैक्टस

सीखने की प्रबल इच्छा, मेहनत और लगन के कारण ही बिजनौर में लगभग नौ वर्ष तक बिना किसी साहित्य गोष्ठी में गए, बिना किसी साहित्यकार से मिले अनमोल जी स्वांत सुखाय के लिए छूट-पुट लिखते रहे. सन 2003 में उनकी भेंट श्री मनोज 'अबोध' जी से हुई और उसके बाद ही उनके लेखन में सुधार आता चला गया. डा. अजय जनमेजय ने ग़ज़ल के व्याकरण को समझने में उनकी बहुत सहायता की और उन्हें जनाब निश्तर साहब से मिलवाया जो बाद में उनके गुरु बने. जनाब 'दिलकश बदायूँनी' और 'निश्तर खानक़ाही' जैसे उस्तादों की रहनुमाई में अनमोल साहब की शायरी संवरी और परवान चढ़ी.

जो जितना नम्र है उतनी ही उसकी हैं सरल राहें
किसी दरिया को बहने से कभी पत्थर ने रोका क्या

हमेशा पोंछती रहती है आंसू अपने बच्चों के
सुना तुमने, किसी माँ का कभी आँचल भीगा क्या

हमेशा देश से माँगा, दिया क्या देश को तुमने
कभी इस बात को गंभीरता से तुमने सोचा क्या

अविचल प्रकाशन , साहित्य पूर्वा, हाइडिल कालोनी , बिजनौर से प्रकाशित ये किताब आप उनसे उनकी इ-मेल avichalprakashan@yahoo.com पर जानकारी प्राप्त कर मंगवा सकते हैं, लेकिन मेरी आपको सलाह ये रहेगी के आप अनमोल जी को उनके मोबाईल 09412146255 पर इस किताब में प्रकाशित उत्कृष्ट शायरी के लिए उन्हें बधाई दें और फिर उन्हीं से पुस्तक प्राप्ति का आसान रास्ता पूछ लें. यकीन करें आप की इस फोन काल से उन्हें बहुत खुशी होगी.

यूँ तो मैंने महफ़िल महफ़िल आधी उम्र बिताई है
पर जो पल भरपूर जिए हैं वो मेरी तन्हाई है

सबके आगे देखा उसको हाथों में पानी थामे
चुपके चुपके जिसने मेरे घर को आग लगाई है

एक न इक दिन ढल जाता है सबके जलवों का सूरज
सारी उम्र, बताओ किसकी चलती कब ठकुराई है

अनमोल जी की इस किताब में तरेसठ गज़लें हैं जिनमें जिंदगी के सैंकडों रंग भरे पड़े हैं, आपको इसमें रोचक नए काफियों से सजी ग़ज़लें भी पढ़ने को मिलेंगी तो छोटी और बड़ी बहर की ग़ज़लें भी. चलिए चलते चलते उनकी एक छोटी बहर की गज़ल की बानगी देखते हैं.

आप बिन जो कटी
जिंदगी त्रासदी

एक तू, तू ही तू
बस मेरी जिंदगी

तू नहीं पास जब
एक पल इक सदी

आप अनमोल जी को मोबाईल पर बधाई दीजिए तब तक हम निकलते हैं आपके लिए एक और किताब की तलाश में...मिलते हैं, एक छोटे से ब्रेक के बाद.

48 comments:

vishal said...

नीरज अंकल, आपके गुरुदेव पंकज सुबीर जी को जन्मदिन की बधाई, आज फिर सोमवार का इत्तेफाक हमने आपकी तरफ से सौगात पाई।
और पहली बार पहला कमेंट मेरा। ऐसा लग रहा है टिप्पणी का गोल्ड मेडल जीता है।

Majaal said...

ग़ज़लों में कैक्टस शब्द तो पहली बार पढ़ा, काफी प्रयोगवादी लगते है शायर साहब ....

इसी तरह छुपे हुनरों से मिलते रहिये ... आभार ...

KK Yadava said...

किसी के प्यार में हस्ती मिटा देना हंसी है क्या ?
वही जानेगा जिसने प्यार की गहराइयाँ जी हैं

....वाह-वाह...बहुत खूब लिखा..एक खूबसूरत समीक्षा...बधाई.

वन्दना said...

हे प्रभो आंधी कोई सारे मुखौटे ले उड़े
जिससे हर इक आदमी फिर आदमी लगने लगे

उसके दिल के ज़ख्म का अंदाज़ होगा क्या भला
बात भी करता है वो तो शायरी लगने लगे

एक कोशिश ये हमेशा ही रही 'अनमोल' की
हो ग़ज़ल उसकी उसकी मगर वो आपकी लगने लगे

गज़ब का प्रस्तुतिकरण है, गज़ल अदायगी लाजवाब है ,,,,,,,,,हर शेर मुक्कमल और ज़िन्दगी से जुडा है………………पढवाने के लिये बहुत बहुत आभारी हैं।

इस्मत ज़ैदी said...

नीरज जी ,
एक बार फिर एक नए (हमारे लिए)शायर का त’आरुफ़ करवाने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ,

कितना पानी रोक लेता होगा उन आँखों का बाँध
जिनको बच्चे का खिलौना बेबसी लगने लगे

बहुत उम्दा ,ज़िंदगी की हक़ीक़त को बयान करने का अच्छा अंदाज़ है

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

जो जितना नम्र है उतनी ही उसकी हैं सरल राहें
किसी दरिया को बहने से कभी पत्थर ने रोका क्या
सचमुच अनमोल...
यूँ तो मैंने महफ़िल महफ़िल आधी उम्र बिताई है
पर जो पल भरपूर जिए हैं वो मेरी तन्हाई है
नायाब...
सबके आगे देखा उसको हाथों में पानी थामे
चुपके चुपके जिसने मेरे घर को आग लगाई है
बेशक़ीमती...
बहुत अच्छे शायर के कलाम से रूबरू कराया नीरज जी.

शारदा अरोरा said...

बहुत सुन्दर शेर , अनमोल जी की शायरी से मिलवाने का शुक्रिया , सचमुच जब ग़ज़ल हमें हमारी बात कहती लगे , तो वो इतनी अपनी हो जाती है ...कमाल है ..

रश्मि प्रभा... said...

कितना पानी रोक लेता होगा उन आँखों का बाँध
जिनको बच्चे का खिलौना बेबसी लगने लगे
chayan achha rahta hai, bahut badhiyaa laga

mahendra verma said...

अनमोल जी के व्यक्तित्व और कृतित्व से आपने परिचय कराया, सचमुच उनकी शायरी लाजवाब है, अनमोल है...मुबारकबाद।

संजय भास्कर said...

गज़ब का प्रस्तुतिकरण है, पढवाने के लिये बहुत बहुत आभारी हैं।

इमरान अंसारी said...

Neeraj Ji,

I salute to you for your contribution of this great work.

कुछ शेर बहुत पसंद आये .........जिंदगी की कड़वी सच्चाइयों के इर्द-गिर्द घुमती है 'अनमोल' जी की शायरी .....वाकई नाम की तरह ही उनका कलाम भी अनमोल है |

डॉ टी एस दराल said...

अनमोल जी की ग़ज़लों में जीवन से जुडी संवेदनाओं का भरपूर अहसास हो रहा है । बहुत सच्चे दिल से लिखी गई लगती हैं सारी ग़ज़लें ।
इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए दिल से आभार ।

hem pandey said...

हे प्रभो आंधी कोई सारे मुखौटे ले उड़े
जिससे हर इक आदमी फिर आदमी लगने लगे
*
हमेशा पोंछती रहती है आंसू अपने बच्चों के
सुना तुमने, किसी माँ का कभी आँचल भीगा क्या
*
एक न इक दिन ढल जाता है सबके जलवों का सूरज
सारी उम्र, बताओ किसकी चलती कब ठकुराई है

-ये ही नहीं , लेख में उद्धृत सारे शेर उत्कृष्ट हैं , जिससे शायर की प्रतिभा का अनुमान लगता है |

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपने निष्पक्ष होकर सटीक समीक्षा की है!

तिलक राज कपूर said...

एक अच्‍छे रचनाकार की रचनाओं में कैनवास पर उकेरी गयी तस्‍वीरों के रंगों और तूलिकाओं की जो विविधता अपेक्षित होती है वह आज के रचनाकार अनमोल की ग़ज़लों में मौज़ूद है।

rashmi ravija said...

नीरज जी, नए नए शायरों से मिलवाना और उनकी किताबों के माध्यम से उनकी शायरी से परिचित करवाने का एक बहुत ही उम्दा और श्रमसाध्य कार्य आप कर रहें हैं....इसकी जितनी भी तारीफ़ की जाए कम होगा.
अनमोल जी की शायरी बेहतरीन हैं....पढवाने का शुक्रिया

प्रवीण पाण्डेय said...

बेहतरीन काव्य रचनायें हैं। रचनाकार व परिचयकर्ता, दोनों का आभार।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर रचनायें, रचना को रचना कार से मिलाने के लिये आप का धन्यवाद

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

नीरज जी… आपकी पारखी नज़र से भला कोई भी शायर छिप सकता है! और छिपना भी चाहे तो कितनी देर तक! जो अनमोल नगीना आपने खोज निकाला है वो सचमुच नायाब है.. बानगी के लिए जो दाने आपने बिखेरे हैं उनकी चमक से अभी तक भौंचक हूँ... आभार आपका!

Udan Tashtari said...

आनन्द आ गया अनमोल जी की अनमोल शायरू के नमूने देख कर....



अगर कुछ काम अच्छा है तो रखती याद हैं नस्लें
बदन पर अपने गिलहरियों ने जैसे धारियां जी हैं


क्या कहना...आप की तो लायब्रेरी पूरी उड़ा ले जाने लायक है..(आप सहित) :)

डॉ. मोनिका शर्मा said...

हे प्रभो आंधी कोई सारे मुखौटे ले उड़े
जिससे हर इक आदमी फिर आदमी लगने लगे
बहुत खूब.... इन पंक्तियों को रचने वाले और हमारे सामने लाने वाले यानि आप
दोनों का आभार....

DEEPAK BABA said...

यूँ तो मैंने महफ़िल महफ़िल आधी उम्र बिताई है
पर जो पल भरपूर जिए हैं वो मेरी तन्हाई है


बस इत्ता ही.........

जय राम जी की.

स्वाति said...

यूँ तो मैंने महफ़िल महफ़िल आधी उम्र बिताई है
पर जो पल भरपूर जिए हैं वो मेरी तन्हाई है
आभार....

दिगम्बर नासवा said...

अनमोल जी के अनमोल शेर पढ़वाने का बहुत बहुत शुक्रिया .....
नगीने चुने हैं आपने .... जो समुंदर में छलाँग लगाने को मजबूर कर देते हैं ... बहुत बहुत शुक्रिया नीरज जी ...

Kailash C Sharma said...

कितना पानी रोक लेता होगा उन आँखों का बाँध
जिनको बच्चे का खिलौना बेबसी लगने लगे
...लाज़वाब प्रस्तुतीकरण...हर चुना हुआ शेर अपने आप में अविस्मर्णीय है....एक अच्छी पोस्ट के लिए बधाई...

अमिताभ मीत said...

देर आयद दुरुस्त आयद .... एक और लाजवाब पोस्ट के लिए शुक्रिया .... और बधाई !!

रचना दीक्षित said...

कितना पानी रोक लेता होगा उन आँखों का बाँध
जिनको बच्चे का खिलौना बेबसी लगने लगे
बेहतरीन रचनायें को पढवाने के लिये आभार

राजेश उत्‍साही said...

नीरज हैं अनमोल और उनका चयन भी।

Akshita (Pakhi) said...

एक और प्यारी किताब...


____________________
'पाखी की दुनिया' के 100 पोस्ट पूरे ..ये मारा शतक !!

JHAROKHA said...

किसी के प्यार में हस्ती मिटा देना हंसी है क्या ?
वही जानेगा जिसने प्यार की गहराइयाँ जी हैं
bahut khoob prastuti.sir utsahi ji ne bilkul theek likha aapke baare main bhi unse sahamat hun.bhaut hi achhe rachnakar se parichay karane ke liye aapko bahut bahut dhanyvaad.
poonam

Mrs. Asha Joglekar said...

अनमोल जी कमाल के शायर लगते हैं ।
आपका शुक्रिया अदा करें कैसे, आप तो, मोती लुटाते ही चले जाते हैं ।
हे प्रभो आंधी कोई सारे मुखौटे ले उड़े
जिससे हर इक आदमी फिर आदमी लगने लगे
ये शेर बहुतही अच्छा लगा ।

हरकीरत ' हीर' said...

किसी के प्यार में हस्ती मिटा देना हंसी है क्या ?
वही जानेगा जिसने प्यार की गहराइयाँ जी हैं
सही है ....यूँ ही नहीं हीर राँझा ,लैला मजनू हुए .....

कितना पानी रोक लेता होगा उन आँखों का बाँध
जिनको बच्चे का खिलौना बेबसी लगने लगे
अद्भुत ......
जो जितना नम्र है उतनी ही उसकी हैं सरल राहें
किसी दरिया को बहने से कभी पत्थर ने रोका क्या
ये तो आपके लिए फिट बैठता है .....
सच्च कुछ दिनों पहले आपका ज़िक्र हुआ तो कुछ ऐसे ही विचार आये थे मन में ......
शुक्रिया इस सुंदर प्रस्तुति के लिए .....!!

अक्षय-मन said...

virahan ko us khat ka akshar akshar chubhta hai...
bahut hi kya kahuin anmol ji ki rachnaye padkar bahut aanand ki anubhuti hui namaste

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

अनमोल जी तो वाकई अनमोल हैं। इस अनमोल रत्न से मिलवाने का शुक्रिया।
................
वर्धा सम्मेलन: कुछ खट्टा, कुछ मीठा।
….अब आप अल्पना जी से विज्ञान समाचार सुनिए।

अंकित "सफ़र" said...

नमस्कार नीरज जी,
किताबों की दुनिया में से एक और 'अनमोल' नगीना आप लाये हैं.
अनमोल जी के शेर वाकई अनमोल है, शेर पढ़ते वक़्त अपने से जुडा लगता है और यही इसकी कामयाबी है.

हे प्रभो आंधी कोई सारे मुखौटे ले उड़े
जिससे हर इक आदमी फिर आदमी लगने लगे

उसके दिल के ज़ख्म का अंदाज़ होगा क्या भला
बात भी करता है वो तो शायरी लगने लगे

यूँ तो मैंने महफ़िल महफ़िल आधी उम्र बिताई है
पर जो पल भरपूर जिए हैं वो मेरी तन्हाई है

निर्मला कपिला said...

अनमोल जी ने अपना नाम सार्थक कर दिया । किताब तो ये शेर देख कर ही लगता है कि लाजवाब होगी। आपकी पसंद की भी दाद देनी पडेगी। धन्यवाद।

डॉ. मोनिका शर्मा said...

जिस मुफलिस की स्यानी बेटी घर में बैठी हो
उसको तो अपना ही गाँव, गली घर चुभता है

-------------------------
bahut sunder sabhi panktiyan kamaal ki hain...

संजय ग्रोवर Sanjay Grover said...

कोई त्यौहार क्या निर्धनों के लिए
ईद-होली-दिवाली, सभी कैक्टस


देखिये, स्वार्थवश हो रहा आजकल
आदमी के लिए आदमी कैक्टस


उसकी बेरोजगारी का संकेत है
उसके चेहरे पे उगती हुई कैक्टस

Achchha prayog hai. Baqi bhi kai sher achchhe lage..Aalasyavash saare nahiN dohra raha...shukriya aur badhaayi..

sada said...

जो जितना नम्र है उतनी ही उसकी हैं सरल राहें
किसी दरिया को बहने से कभी पत्थर ने रोका क्या

हमेशा पोंछती रहती है आंसू अपने बच्चों के
सुना तुमने, किसी माँ का कभी आँचल भीगा क्या

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

विरेन्द्र सिंह चौहान said...

Really very nice post....Neeraj ji..

I like it very much.Thanks for such a nice post.

jogeshwar garg said...

thanks a lot, neerajji !

सुनील गज्जाणी said...

neeraj jee
pranam !
jitne sunder sher hai otni hi sunderta se aap ne prastut kiya hai anmol jee ko bhi bahut bahut badhai !
har sher achcha laga .
saadar

Prem said...

नीरजजी ,नवरात्री की शुभकामनायें । नईपुस्तकों का परिचय और नए कवियों से पहचान में आपका जवाब नहीं ,शुक्रिया ।

वन्दना अवस्थी दुबे said...

विजयादशमी की अनन्त शुभकामनाएं.

नीरज गोस्वामी said...

E-mail received from Om Prakash Sapra Ji:-

shri neeraj ji
wah
aapne kamal kar diya
anmol ji ki anmol shairi pesh kar ke.
thanks and dhanyawad,
regds,
-om sapra delhi-9
9818180932

मनोज अबोध said...

अनमोल जी तो मेरे अपने हैं इसलिए इस बड़े काम के लिए नीरज जी आपको बधाई देना चाहता हूं । अपनी 11 साल पहले छपी किताब एक बार आपको भेजना चाहता हूं, अब पता तो आप ही बताएंगे ना00

Ashutosh said...
This comment has been removed by the author.
Ashutosh said...

AADRNEEYA NEERAJ JI,
AISA TO KOI ANMOL HI SOCH SAKTA THA "DARIYA DOOB GAYA". YE EK MISAAL HAI. JEEVANT RACHANAON KE IS ANMOL SHAYAR KE PARICHAYA KE LIYE AAPKA AABHAR.

ASHUTOSH PANDEY
LUCKNOW.
CONTACT-9838502317