Monday, August 23, 2010

ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं


बोल कर सच ही जियेंगे जो कहा करते हैं
साथ लेकर वो सलीबों को चला करते हैं

आ पलट देते हैं हम मिल के सियासत जिसमें
हुक्मरां अपनी रिआया से दगा करते हैं

साथ जाता ही नहीं कुछ भी पता है फिर क्यूँ
और मिल जाये हमें रब से दुआ करते हैं

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

फूल हाथों में, तबुस्सम को खिला होंटों पर
तल्खिया सबसे छुपाया यूँ सदा करते हैं

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

चाह मंजिल की मुझे क्यूँ हो बताओ "नीरज"
हमसफ़र बन के मेरे जब वो चला करते हैं

56 comments:

Unknown said...

साथ सच के ही जियेंगे जो कहा करते हैं
वो उठा कर के सलीबों को चला करते हैं

आ पलट देते हैं हम मिल के सियासत जिसमें
हुक्मरां अपनी रिआया से दगा करते हैं

वाह क्या शेर कहे हैं । वैसे तो सारी गज़ल ही ्पने आप में कमाल है .

Shiv said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

अद्भुत!!
एक-एक शेर आपकी छाप छोड़ता है. वाह ही वाह!!!

इस्मत ज़ैदी said...

आ पलट देते हैं हम मिल के सियासत जिसमें
हुक्मरां अपनी रिआया से दगा करते हैं

वाह !नीरज जी बहुत सही फ़रमाया आप ने

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

बहुत ख़ूबसूरत शेर है !
इस गुज़ारिश पर अगर अमल कर लिया जाए तो कोई रिश्ता ही न टूटे
ख़ूब !
अच्छी ग़ज़ल!

पारुल "पुखराज" said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

khuub!

vandan gupta said...

हमेशा की तरह उम्दा शेर्……………शानदार गज़ल्…………ज़िंदगी की हकीकतों से रु-ब-रु करवाती हुयी।

सुनील गज्जाणी said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

neeraj jee , pranam !
ye aap ki hi nazar hai , ek aashawadi soch nayi disha pradan karta sher man ko choo jaata hai ,
sab sher oomda hai .
sadhuwad!

सदा said...

साथ जाता ही नहीं कुछ भी पता है फिर क्यूँ
और मिल जाये हमें रब से दुआ करते हैं


गहरे भावों के साथ बेहतरीन पंक्तियां, सभी एक से बढ़कर एक, आभार ।

Majaal said...

जताया हक रिश्तों पे मालिकाना 'मजाल',
वो अब किरायदारों की तरह मिला करते है.

शारदा अरोरा said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुंची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं
बहुत सुन्दर , और ये भी
दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
शाख से तो ज़र्द पत्ते खुद गिरा करते हैं
जैसे जड़ों से जुड़े तो हरियाली क्यों कर न मिलेगी ...वाह वाह

Rajeev Bharol said...

नीरज जी,
बहुत ही अच्छी गज़ल.

मतला और
"दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
शाख से तो ज़र्द पत्ते खुद गिरा करते हैं "

बहुत अच्छा लगा.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं....
वाह नीरज जी,
क्या कहने... कितना खूबसूरत शेर हुआ है.

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं
सच कहा है...रिश्ते बनाना जितना आसान है,
उन्हें हर हाल में निभाते रहना उतना ही मुश्किल है...
उम्दा ग़ज़ल के लिए मुबारकबाद.

Udan Tashtari said...

सुन्दर गज़ल!


दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
शाख से तो ज़र्द पत्ते खुद गिरा करते हैं


उम्दा शेर.

समयचक्र said...

साथ सच के ही जियेंगे जो कहा करते हैं
वो उठा कर के सलीबों को चला करते हैं
बहुत भावपूर्ण रचना . नीरज जी ...आभार

شہروز said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

क्या अंदाज़ है बहुत खूब !

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकानाएं !
समय हो तो अवश्य पढ़ें यानी जब तक जियेंगे यहीं रहेंगे !
http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_23.html

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
शाख से तो ज़र्द पत्ते खुद गिरा करते हैं

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

बहुत खूबसूरत गज़ल....हर शेर एक से बढ़ कर एक ...

राजेश उत्‍साही said...

अच्‍छी लगी।

संजय @ मो सम कौन... said...

नीरज साहब,

गज़ब की गज़ल लिख डाली है आपने। एक से एक खूबसूरत शेर।
"चाह मंजिल की हमें क्यूँ हो बताओ "नीरज"
हमसफ़र बन के मेरे जब वो चला करते हैं"
छा गये हो सरजी।

दिगंबर नासवा said...

बहुत ही लाजवाब नीरज जी ... आपका ग़ज़ल का अंदाज़ बहुत जुड़ा है सबसे ...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं
क्या बात कही है इस शेर में ... ये सच है दो हिम्मत रखता है मंज़िल उसे ही मिलती है ...

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
शाख से तो ज़र्द पत्ते खुद गिरा करते हैं
ये ज़माने की रीत है ... कमजोर क दोष हो तो भी गाज़ मजबूत पर ही गिरती है ... बहुत लाजवाब शेर निकाले हैं सब ...

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत ही सुंदरतम शेर, शुभकामनाएं.

रामराम

नीरज गोस्वामी said...

मैं सच बहुत खुशनसीब हूँ, इतना के मुझे अपनी किस्मत पे रश्क होता है. इस ग़ज़ल के पोस्ट होने के बाद मुझे आदरणीय प्राण साहब, पंकज जी, शाहिद भाई और इस्मत जैदी साहिबा के मेल मिले जिनमें इस ग़ज़ल में मुझसे हुई कमियों को खुल के बताया गया था. मैं सब की सब कमियों को तो अभी तक नहीं सुधार पाया लेकिन उन्हें सुधारने की कोशिश में जरूर लग गया हूँ. मैं आप सब के प्यार से अभिभूत हूँ आप मेरी अच्छाइयों के साथ साथ मेरी कमियों, कमजोरियों की और भी इशारा करते हैं. ऐसे रहनुमां ऊपरवाला सबको नहीं देता. मुझे उम्मीद है के आईंदा भी मेरे लड़खड़ा जाने पर आप सब मिल के मुझे फिर से संभाल लेंगे.

नीरज

hem pandey said...

प्रत्येक पद दाद देने लायक है. साधुवाद.

डॉ .अनुराग said...

ये सिर्फ कुछ लोगोमे खासियत होती है नीरज जी....जो सुझावों को ओर आलोचनाओ को स्वस्थ तरीके से लेते है .....यूँ भी इस दुनिया में प्रशंसा से भी आप किसी को जीत सकते है ओर आलोचना से किसी को हार ....ओर ये भी के आपके सच के वेल विशर जो उन्होंने महसूस किया वही कहेगे ..



इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं



बड़ा मुश्किल काम है जी

स्वप्निल तिवारी said...

shandar matla .....



धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

dhoop ka kamron me aana kitna zaroori hota hai ..warna ek seeli see boo uthne lagti hai ..jehan ka bhi haqal kamron se alag nahi hota..khula rahe to dhoop aati jaati hai ...behad shaandaar sher hai ..jitna bada dikhata hai usse kaheen bada..hats off iske liey

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं

ek aur kamyaab sher ...waaah


ek bahut achhi ghazal padhne ko mili shuqriya ..rakshabandhan ki shubhkamnayen ..:)

प्रवीण पाण्डेय said...

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
शाख से तो ज़र्द पत्ते खुद गिरा करते हैं

मानवीय पहलू को बड़े गहरे तरीके से उद्घाटित किया।

अजय कुमार said...

कमाल है ,बधाई ।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

नीरज जी, आप इतना अच्छा कहते हैं, कि ये ब्लॉग अब सिर्फ़ आपका ही नहीं रह गया, बल्कि हम सबका हो गया है...
इसी अधिकार से हमने अपनी राय आपको मेल की थी, आप और आपके लेखन पर हमे गर्व है.
और ये हमारा सौभाग्य है कि हम सब एक दूसरे की भावनाओं को सकारात्मक लेते हैं, यही हमारा ब्लॉग परिवार है...
अल्लाह हमारी मुहब्बतों को इसी तरह कायम रखे(आमीन.

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

बस गुरुदेव! इस शेर के बाद कुछ नहीं रहा कहने को...जिनदगी का पूरा फलसफा इन दो मिसरों में बयान कर दिया आपने..
इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं
बाकी तो पूरी ग़ज़ल लाजवाब है, हमेशा की तरह... हर शेर ख़ूबसूरत है, हमेशा की तरह... लफ्ज़ों की अदायगी बेहतरीन है, हमेशा की तरह… सिर्फ नहीं है तो मेरी ज़ुबान.. ग़ज़ल के पेंचोख़म में ऐसा उलझा कि अपनी ज़बान भी भूल गया…

मनोज कुमार said...

उम्दा ग़ज़ल।

राज भाटिय़ा said...

अच्छी प्रस्तुति। आभार

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) said...

आपके तो हर शे' र ने मन को मोह लिया.....

अमिताभ मीत said...

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं
इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

क्या कहूं ?

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून said...

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

लाजवाब हैं आपकी ये पंक्तियां तो.

Abhishek Ojha said...

आज तो एक भी शेर नहीं चुन पाया ! सब एक से बढ़कर एक हैं. कमाल है जी ये गजल तो.

Manish Kumar said...

behad pyari lagi ye ghazal. aur ye sher to

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं

behtareen tha hi

अर्चना तिवारी said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं....लाजवाब शेर

दीपक बाबा said...

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं

सही बात है, दद्दा, आपकी स्मृति को क्या दोष दें जो हमें भुला दिया.
"जर्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं."

गजल में ही वास्तविकता बयान कर दी.

स्वाति said...

बहुत ख़ूबसूरत...

Unknown said...

वो इस सलीके से घर में दिया जलाता था,
पड़ोसी के घर में बराबर नूर जाता था।

चाह मंजिल की मुझे क्यूँ हो बताओ 'नीरज'
हमसफर बनके मेरे वो जब चला करते हैं

भावनाओं को यदि शब्दों में पिरोया जा सकता तो जरूर इसकी तारीफ में कुछ कहता। पहले मैं आपको मिष्टी का पापा (और अपना भाई साहब) समझता था अब पता चला ‍कि आप अंकल हैं हमारे अत: प्रणाम स्वीकारें।

शोभना चौरे said...

क्या बात है ?बहुत खूब
धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं
बहुत गहरी बात है इस शेर में |
धूप में ही तो कलियाँ खिलेगी न ?

shikha varshney said...

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

कितनी खूबसूरत बात कही है
बहुत ही उम्दा गज़ल.

vijay kumar sappatti said...

NEERAJ JI
DERI SE AANE KE LIYE MAAFI ..

JAB BHI MAIN AAPKI GAZAL PADHTA HOON , PAHLI BAAT JO MAN ME AATI HAI , WO YAHI AATI HAI KI , MAIN AAP JAISE ACCHI GAZAL KYON NAHI LIKH PAATA HOON .. AAP ZINDAGI KE PHILOSPHY KO APNI NAZMO AUR GAZLO ME IS TARAH SE DAAL DETE HAI KI , KYA KAHUN.. MERE PAAS KOI SHABD NAHI AUR NA HI ITNI SAMAJH KI MAIN AAPKE SHERO KO POORI TARAH SE SAMJAH SAKU, EK EK SHER ME KAYI KAYI MATLAB SHAAMIL HAI .....MERA SALAAM KABUL KARE..
AAPKI LEKHNI AMAZING HAI JI ..

AAPKA HI

VIJAY

Prem Farukhabadi said...

Har sher lajwaab!!

SATISH said...

आदरणीय नीरज साहब,
बहुत अच्छे शे'र हुए हैं पहले की तरह
इस बार भी...

साथ सच के ही जियेंगे जो कहा करते हैं
वो उठा कर के सलीबों को चला करते हैं

हकीकत बयां की है इस शे'र में

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

बहुत बहुत बधाई...
सतीश शुक्ला "रक़ीब"

डिम्पल मल्होत्रा said...

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं ..behatreen..

पूनम श्रीवास्तव said...

Adaraneeya Neeraj sir,
apkee pooree gajal hee khoobasuratee se likhee gayee hai---par in panktiyon ka javab naheen.

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं

Poonam

Anonymous said...

नीरज जी,

आपके द्वारा मेरे ब्लॉग पर की गयी प्रतिक्रियाओं का हार्दिक धन्यवाद | आपका ब्लॉग बहुत खुबसूरत है जैसे की आपकी लेखनी आपके ब्लॉग पर आकर बहुत अच्छा लगा.....ऐसे ही लिखते रहिये और हम जैसो का उत्साह बढ़ाते रहिये ....शुभकामनाये.


"साथ जाता ही नहीं कुछ भी पता है फिर क्यूँ
और मिल जाये हमें रब से दुआ करते हैं"

ये पंक्तिया दिल को छू गयी......

हरकीरत ' हीर' said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

जी .....

और जिनके दरवाजे खोलने पर भी बंद कर दिए जायें .....?

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं

ओये होए ......!!
कहीं मुझ पर ही तो नहीं लिखा गया ये शे'र .....??

चाह मंजिल की मुझे क्यूँ हो बताओ "नीरज"
हमसफ़र बन के मेरे जब वो चला करते हैं

दुआ है ये साथ यूँ ही बना रहे .....!!
इक और लाजवाब ग़ज़ल .....!!

Satish Saxena said...

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं

वाह वाह !
बेहतरीन रचना , आपको शुभकामनायें नीरज भाई

Unknown said...

दोष आंधी को भले तुमने दिये हैं लेकिन
ज़र्द पत्ते तो सदा खुद ही गिरा करते हैं

इक गुजारिश है कि तुम इनको संभाले रखना
दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं|

वाह नीरज भाई वाह लोग आँधी को दोष देकर अपनी कमज़ोरियों को छुपा देते हैं वाह.................दिल के रिश्ते हैं ये मुश्किल से बना करते हैं । बहुत दिनों बाद लौटा ताज़ा हो गया।

Urmi said...

बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने ! बधाई!

ankur goswamy said...

bahut sundar !! wah !

गौतम राजऋषि said...

ये बहर मुझे बहुत ही पसंद है। कमाल की धुनें बनती हैं इस बहर पर।

"धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची/खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं"...एकदम अनूठा शेर है नीरज जी और मक्ते पे खास तौर पे दाद।

mridula pradhan said...

bahot achchi.

manu said...

खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं
तल्खिया सबसे छुपाया यूँ सदा करते हैं





aaj kaafi der se apke blog par rahe...
pahli baar madhubaala ki koi rangeen tasweer dekhi hamne...ekdam MAULIK.....


hamein NET kaa jyaadaa istemaal nahin aataa....warnaa churaa le jaate aaj...

Ankit said...

धूप दहलीज़ से कमरों में उन्‍हीं के पहुँची
खोल दरवाज़े घरों के जो रखा करते हैं

आप के इस शेर को कहने का अंदाज़ ................अहा
वाह वाह वाह वाह

Unknown said...

aapke kabitao me jan hai sir
arganikbhagyoday.blogspot.com