Wednesday, April 1, 2009

चाँद आशा का गर उगेला है

उम्मीद थी की गुरुदेव अपनी नयी तरह की ग़ज़ल, जैसा की उन्हों आश्वाशन दिया था, मुझे भेजेंगे .लेकिन ऐसा हुआ नहीं...आश्वाशन आश्वाशन ही रहे...चुनाव कवर करने के दौरान नेताओं के साथ साथ रहते हुए शायद उनमें भी नेताओं वाले गुण आ गए हैं...
(ये तो मजाक की बात है, गुरुदेव जरूर व्यस्त होंगे, उनमें नेताओं वाले गुण आ ही नहीं सकते...किसी भले इंसान में आपने नेताओं वाले गुण देखें हैं क्या???? ...खास कर आज के दौर में)

जिस मुम्बईया ग़ज़ल का जिक्र गुरुदेव ने मेरी पिछली पोस्ट में किया था वो करीब साल भर पहले लिखी थी और उस पर मिश्रित प्रतिक्रिया भी हुई थी. आज अपनी उसी ग़ज़ल को फिर प्रस्तुत कर रहा हूँ. आप देखें की सिर्फ काफिये ही मुम्बईया भाषा के हैं लेकिन भाव और नियम असल ग़ज़ल के. जिन्होंने पहले नहीं पढ़ी वे इसका आनंद लें और जिन्होंने पहले पढ़ी थी वो दुबारा इसका आनंद लें ,क्यूंकि आनंद ही जीवन है.



गर जवानी में तू थकेला है
सांस लेकर भी फिर मरेला है

सच बयानी की ठान ली जब से
हाल तब से ही ये फटेला है

ताजगी मन में पायेगी
गर विचारों से तू सड़ेला है

हो जरुरत तो ठीक है प्यारे
बे-जरुरत ही क्यूँ खटेला है

रात काली हो बे-असर गम की
चाँद आशा का गर उगेला है

लोग सीढ़ी है काम में लेलो
पाठ बचपन से ये रटेला है

रोक पाओगे तुम नहीं 'नीरज'
वो गिरेगा जो फल पकेला है

51 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत बेहतरीन रचना.

रामराम.

mamta said...

पहले तो नही पढ़ी थी पर आज पढ़ ली ।

और आनंद आया ।

अजित वडनेरकर said...

जै हो,
इस रचना में मुंबई का सम्मान बढ़ गया है..
आनंद आया..

दिगम्बर नासवा said...

नीरज जी

मुम्बईया अंदाज बहुत जोरदार है..........
इतना ही कहूँगा बस

नीरज का अंदाज़ नवेला है
सबके दिलों में वो बसेला है

इतनी अच्छी ग़ज़ल पढ़ कर
ख़ुशी से मेरा दिल पगेला है

Mumukshh Ki Rachanain said...

भाई नीरज जी,

जैसा कि मैंने आपकी पिछली पोस्ट "गज़ले-इंग्लिश" में प्रतिक्रिया देते हुए यह कामना कि थी कि इस बार भी आप प्रथम अप्रैल को मूरखता के दोहे की दूसरी कड़ी से जरूर अवगत करायेंगे , पर जैसा कि अमूमन मूरख दिवस पर होता है, कोई नया आइडिया ही चलता है और आपका यह नया आइडिया भी काबिले तारीफ है कि आपने "गजले-मुम्बईया" ही ठेल दी.............., आखिर बना कर ही छोडा न ........................
आस , अरदास की सब ऐसी -तैसी कर के ही छोडी,
अब तो आप बासी माल पर बासी कमेन्ट से ही काम चला ले.....................

वैसे आपकी जानकारी के लिए मूरख दिवस की पूर्व संध्या पर भाई मौदगिल जी मज़ेदार, लक्षेदार, कटीले, चुटकीले, भड़कीले दोहे परोस चुके हैं. नज़ारे इनायत करें.

मैनें भी कुछ दोहे आज ही सुबह अपने ब्लॉग पर ठेला है, चुटीली प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है.............

चन्द्र मोहन गुप्त

mehek said...

रात काली हो बे-असर गम की
चाँद आशा का गर उगेला है

लोग सीढ़ी है काम में लेलो
पाठ बचपन से ये रटेला है
jabardast:)bahut hi achhi

RAJ SINH said...

neeraj bhayee ,

maan gaya baap ! lajabab ho aap !

is me samaya falsafa, ummeed hai log hansee me na len. jhank kar dekhenge to 'mumbaikar' ka dard isme 'chipela' hai . varna kahe koyee mumbaikar 'khatela' hai . mumbai me 1 %
se jiyada bharat basta hai. uska dard bhee, uskee ummeeden bhee, uskee uplabdhi bhee .

aur apne pagalpan me koyee mumbai kee bhasa kuch aur kahe ya batana chahe ya banana chahe ........kar le koshis , lekin mumbai kee bhasa yahee hai .

chaliye ek man ho aaya hai !

MUMBAI KE GHAM, DARD , SANGHARSH , AANAND, UPLABDHI AUR PEEDA KO SAMARPIT AISEE HEE KUCH 'SHAIREE' HO , MUMBAIKAR KEE JUBAN ME , AUR USE GA BAJAKE KAHA JAYE . MUMBAIKAR ,ISHTAYIL' ME.

JAB BHEE BOLO APUN CHALOO HO JAYENGA BOSS, APUN BHEE PAIDAISHEE MUMBAIKAR HAI !

AUR AAJ KAL AAPUN ISEE DHANDHE ME HAI TO BINDHAST BHEE HAI .HO JAYENGA .

रंजन said...

सरल मुंबया शब्दो मॆं गहरी बात कह दी.. अच्छा है..

RAJ SINH said...

CHALO TRY KARTE HAIN BANDHU . SAB KO INVITE KARTE HAIN ! ( PUNE VAALON KO CHOD KAR . UNKA, AUR MUMBAI KA 36 KA AANKDA HAI ! )

Shiv Kumar Mishra said...

वाह! वाह!
मुंबई की हिंदी और मुम्बईया हिंदी में गजल. गजल तो क्या, 'गजेला' है.
बहुत शानदार!

Shama said...

Ye "bambaiyya bhashame kavita padh, aanand aa gayaa...
Mere blogse aapka blog nahee khul paya...any blogse aapka lnk leke ayee hun.

Aap jaise rachnakaarpe tippanee likhun, itnaa ikhtiyaar nahee, naahi qabiliyat..
Ek to meree e-mail ID hack ho gayi thee aur mere e-mails ajeeb, ajeeb e-mails anytr jaa raheen thee...Irshad ji kaa," Apnehee Hathiyaarse Mara Gaya". Is karan any blogger doston ke saath kaafee galatfehmiyaan bhi ho gayeen...aashaa hai, aapbhi hame maaf kar denge....dilki gehrayeese sabki kshama prarthi hun...
Hackingka source to koyi ajeeb-si website hai...jaise Irshadka "orkut" ke thru ho gaya tha...pata naheen, shayad mainehee kaheen koyi galat jageh "click"kar diya ho...

Mera apna blog, "The light by a lonely path" jo "chittha jagat" se juda hai,indexme 106 post dikh raheen hain...asalme kewal 19 reh gayeen hain...samajh nahee pa rahee ki, maine kahan kya click kar diya jo ye gadbadi ho gayi...
Maafeeka namr nivedan hai.
Meree orse kewal aparipakwtahee nahee thee, hacking bhee ek karan ban gaya tha,mis understanding ka.. ..dua karti hun, aap sabhee maaf kar denge...aaplog mere karan aahat hue,iskee behad sharmindagee bhee mehsoos kar rahee hun.
shama

MUFLIS said...

"rang bilkul naya mila mujhko ,
ghaur se jb ise parhelaa hai.."

waah !! Neeraj bhai....
ek-dm alag lehjaa aur
ghazal ka poora waqaar qaayam hai.
badhaaee . . . .
---MUFLIS---

रश्मि प्रभा said...

waakai aanand aaya........

पंकज सुबीर said...

इसे कहते हैं प्रयोगवादी ग़ज़ल किसी ने कहा है न
ग़ज़ल को ले चलो अब गांव के दिलकश नज़ारों में
मुसलसल फन का दम घुटता है इन अदबी इदारों में
प्रयोग करना ही बढ़ते रहने का प्रतीक है । आपकी ये ग़ज़ल इसके बारे में क्‍या कहूं । आनंद या कहें कि निर्मल आनंद का विषय है । जो निर्मल आनंद चुपके चुपके जैसी फिल्‍मों को देखने में आता है वही आपकी इस ग़ज़ल में है ।

pallavi trivedi said...

मुम्बईया ग़ज़ल...पहली बार! मज़ा आ गया!

मीत said...

आजकल क्या ये कर रहेला है?
आइटम खूब मगर ठेला है !!

संध्या आर्य said...

badhya hai...... our kahane ki jarurat nahi lagarahi kyoki baki ka aapne apane shayari me kah di hai........

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया रचना है।

Dr. Chandra Kumar Jain said...

गज़ब...रोचक...सरल किन्तु
सन्देश से परिपक्व....आशा के चाँद और
बचपन के रटंत की बात खास तौर पर
कारगर लगीं....शुक्रिया नीरज जी.
==============================
आपका
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey said...

वो गिरेगा, जो फल पकेला है!
---------
वाह! महामृत्युंजय मंत्र का गजलानुवाद है - उर्वारुकमिवबंधनात!

रंजना [रंजू भाटिया] said...

वो गिरेगा, जो फल पकेला है! ..वाह वाह इस से अच्छा ज्ञान तो कोई और हो ही नहीं सकता है ...बहुत बढ़िया प्रयोग लगा आपका यह ..शुक्रिया

डॉ. मनोज मिश्र said...

यह वाकई मजेदार है .

Manish Kumar said...

इसे पढ़ कर वो मज़ा तो नहीं आता जो सामान्यतः आपकी ग़ज़लों को पढ़ने से आता है। चलिए जायका बदलने में भी कोई हर्ज नहीं है।

डॉ .अनुराग said...

झकास धकेली है बीडू !झकास बोले तो.....

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

अरे नीरज जी,
मुन्ना भाई की अगली फिलिम के लिये ये गज़ल लिखेला है क्या ? :)
जानदार च शानदार भी ..
- लावण्या

"अर्श" said...

मार डाला ...इस नए अंदाज के क्या कहने नीरज जी गुरु जी ने सही कहा या वो शेर.. सौ प्रतिशत सच्ची बात है ले चलो अब ग़ज़ल को गावों के और... आप तो माहिर है गज़ल्गोई में सरकार... ये चेहरा कहाँ आपने छुपा रखा था... बहोत खूब लिखा या आपने.. सच्ची भावनाप्रद ग़ज़ल...ढेरो बधाई आपको..

अर्श

Shefali Pande said...

हम तो समझे थे नीम ,ये तो करेला है
जो भी हो बहुत मस्त लिखेला है

Jayant Chaudhary said...

आनंद आ गया उसमें डूब कर...
जो आपने शब्दों का सागर उडेला है..

Harkirat Haqeer said...

नीरज जी क्या खूब लिखेला है
दिल फुदक- फुदक हँसेला है

bhootnath( भूतनाथ) said...

आप तो भाई बहुत ही गज़ब कर रहे हो....मतलब यह कि अच्छा कर रहे हो.....मजा आ गया....!!..........
आज अपन भी इक् ग़ज़ल कहेंगे गाफिल
आज अपन का भी माथा फिरेला है....

संगीता पुरी said...

बहुत बढिया ... बधाई।

मीनाक्षी said...

पहले भी पढ चुके है लेकिन दुबारा पढकर भी वही आनन्द आया है.... गज़ल को कहने का नया भाषा प्रयोग भी खूब सफल रहा ...

राज भाटिय़ा said...

नीरज जी आप ने तो बल्ले बल्ले कर दी जी. बहुत सुंदर.
धन्यवाद

Abhishek Mishra said...

रात काली हो बे-असर गम की
चाँद आशा का गर उगेला है

वाकई मुन्नाभाई सीरीज़ में काफी काम आएगी! बधाई.

कुश said...

पुरानी शराब का तो नशा ही कुछ अलग होता है.. बोले तो एक दम ढी न चाक ग़ज़ल लिखेली है बाप!
ब्लॉग की खिड़की में बैठी मिष्टी बिटिया बहुत प्यारी लग रही है

Science Bloggers Association said...

शायद यह गजल का बम्‍बइया अवतार है।

-----------
तस्‍लीम
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

अल्पना वर्मा said...

ghazal to jhakkas hai Neeraj ji!!

ab ye kya style mein aap ne likhni shuru kar din...:)
ab is style ko permanant na kar dijeeyega..

रविकांत पाण्डेय said...

बहुत बढिया प्रयोग है। आनंद आ गया। लगे हाथ इसी भाषा में कुछ और गजलें पढ़वाईये ना।

गौतम राजरिशी said...

हा हा...सुंदर नीरज जी
और इस शेर पे "रात काली हो बे-असर गम की
चाँद आशा का गर उगेला है" अपून खूब वाह-वाह करेला है...

उधर थोड़ा विलंब क्या हुआ कि वो गंगाजल वाली गज़ल वाला पोस्ट नहीं मिल रहा,,...आपने हटा दिया क्या?

बवाल said...

वाह वाह वाह वा ! नीरज दा। कोई जवबिच नहीं आपका बाप। क्या गजल मारेली है बाप। झ्क्कास! बोले तो किदर था तुम भिड़ू आज़ून तलक ?
माला वाट्तं तुमि पण आप्ल्या माणूस झालेलाय।
हा हा !
बहुत बहुत बहुत लाजवाब रही नीरज दा ये बम्बैया ग़ज़ल आपकी। नज़र वज़र आजकल में ज़रूर उतरवा लीजिएगा। हा हा !

Udan Tashtari said...

गज़ब का लिखेला है भाई-बहुत खूब!!

shyam kori 'uday' said...

... क्या टपकाईला है, झकास, झकास, झकास।
आपका स्टाईल बेजोड है, हँसी आ गई।

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

नीरज जी, मुझे हैरत है और पछतावा भी कि मैंने अभी तक आपको फॉलो क्यों नहीं किया था। दरअसल ग़ज़ल मेरे लिए एक दुरूह विधा रही है। लेकिन जब से गुरू पंकज सुबीर जी की ग़ज़ल की कक्षा पध़्अने का सौभाग्य मिला तबसे थोड़ी बहुत रुचि जाग गयी है।

आपके ब्लॉग पर मुझे बहुत बड़ा खजाना हाथ लगा है। अब इसे समय देकर पढ़ता हूँ। हार्दिक धन्यवाद और बधाई इस ग़ज़ल के लिए।

निर्झर'नीर said...

LOL
neeraj ji

kuch nahi kahungaa ..aapka ye roop bhi hai pata nahi thaa.

Harsh said...

bahut achchi ghajal hai.... mai to padkar ghaharayiyo me kho hi gaya....

hem pandey said...

बम्बइया लहजे में अच्छी प्रस्तुति है.साधुवाद.

dwij said...

नीरज भाई साहब
ये तो कमाल हो रखा है.

झक्कास
.

एक एक शेर खल्लास करता जाता है.

kaushik said...

i really impressed

Rohit said...

पढ कर आनंद आ गया

Nirmla Kapila said...

गज़ल पसंद आई,देर से ही सही
मगर टिप्पणी तो करेला है!
बहुत लाजवाब अंदाज़ है आपका
हर शब्द मोती बनेला है
नाम रोशन हो दुनिया मे आपका
यही शुभकामना मेरी रहेला है

Nirmla Kapila said...

गज़ल पसंद आई,देर से ही सही
मगर टिप्पणी तो करेला है!
बहुत लाजवाब अंदाज़ है आपका
हर शब्द मोती बनेला है
नाम रोशन हो दुनिया मे आपका
यही शुभकामना मेरी रहेला है