Tuesday, December 4, 2007

मीरा को ज़हर आप पिलाते क्यों हो




नहीं मिलना तो भला याद भी आते क्यों हो
इस कमी का मुझे एहसास दिलाते क्यों हो

डर तुम्हे इतना भी क्या है कहो ज़माने का
रेत पे लिख के मेरा नाम मिटाते क्यों हो

दिल में चाहत है तो काँटों पे चला आएगा
आप पलकों को गलीचे सा बिछाते क्यों हो

हम पर इतने किए उपकार सदा है माना
हम को हर बार मगर आप गिनाते क्यों हो

जाने किस वक्त तुम्हे इनकी ज़रूरत होगी
आप बे वक्त ही अश्कों को गिराते क्यों हो

यारी पिंजरे से ही कर ली है जब परिंदे ने
आसमां उसको खुला आप दिखाते क्यों हो

ज़िंदगी फूस का इक ढेर है इसमें आकर
आग तुम इश्क की सरकार लगाते क्यों हो

मुझको मालूम है दुश्मन नहीं हो दोस्त मेरे
मुझसे खंजर को बिना बात छुपाते क्यों हो

इश्क मरता नहीं नीरज है पता सदियों से
फ़िर भी मीरा को ज़हर आप पिलाते क्यों हो

15 comments:

अनिल रघुराज said...

ज़िंदगी फूस का इक ढेर है इसमें आकर।
आग तुम इश्क की सरकार लगाते क्यों हो।।
क्या बात है नीरज भाई। सुंदर गज़ल है।

Gyandutt Pandey said...

मुझको मालूम है दुश्मन नहीं हो दोस्त मेरे
मुझसे खंजर को बिना बात छुपाते क्यों हो
**************************

लो आ गये नीरज जी! और आपसे क्या छिपायेंगे?
और हर युग में लोग मीराँ को जहर पिलाते रहेंगे पर मार न पायेंगे।

parul k said...

bahut khuub neeraj ji
नहीं मिलना तो भला याद भी आते क्यों हो
इस कमी का मुझे एहसास दिलाते क्यों हो
##############################
हम पर इतने किए उपकार सदा है माना
हम को हर बार मगर आप गिनाते क्यों हो

really beautifull lines

रंजू said...

इश्क मरता नहीं नीरज है पता सदियों से
फ़िर भी मीरा को ज़हर आप पिलाते क्यों हो

वाह आपका लिखा पढ़ना तो दिली सकून दे जाता है ..बहुत खूब नीरज जी

Ranjana said...

मीरा बन पाने का तो जाने दीजिये, बस उसको समझ भर पाने का सामर्थ्य कितने लोगों के पास हुआ करता है.और यह सामर्थ्य यदि रंचमात्र भी अपने पास आ जाए तो फ़िर जीवन मे और कुछ भी पाने को नही बच जाता.आप उन विरले भाग्यशाली लोगों मे से हैं जिन्होंने वह संवेदनशील ह्रदय पाया है.इश्वर आपकी ह्रदय भूमि को निरंतर अपने स्नेह से सिंचित कर इसे और उर्वर बनायें,यही हमारी शुभकामना है.

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

मुझको मालूम है दुश्मन नहीं हो दोस्त मेरे
मुझसे खंजर को बिना बात छुपाते क्यों हो
वाह, बहुत खूब नीरज जी!

सजीव सारथी said...

इश्क मरता नहीं नीरज है पता सदियों से
फ़िर भी मीरा को ज़हर आप पिलाते क्यों हो
वाह क्या बात है ...

बाल किशन said...

अद्भुत लिखा है आपने. वड्डे पापाजी, हम आपकी गजलों का इंतजार ऐसे ही नहीं करते..

क्षमा करें दो दिनों बाद कमेंट लिख रहा हूँ. कल से ब्लॉगवाणी पर फिर से मेरी ही टिप्पणियां दिखाई देंगी.

Shiv Kumar Mishra said...

बहुत बढिया लिखा है भैया आपने..अब मेरा ये वाक्य मुझे ही बोर करता है...

सागर चन्द नाहर said...

दिल को छू गई रचना...
फ़िर भी मीरा को ज़हर आप पिलाते क्यों हो
अद्‍भुद.. बहुत खूब

मीत said...

....इस कमी का मुझे एहसास दिलाते क्यों हो

छा गए हुज़ूर.

किस शेर कि तारीफ़ करूं ? ख़ैर, ये तय है कि आप का क़ायल होता जा रहा हूँ. लत लग रही है सो अलग. कमाल है सर, कमाल है बस.

Mired Mirage said...

बहुत सुन्दर लिखा है ।
घुघूती बासूती

Ajay Kanodia said...

नीरज जी

आपकी यह रचना बहुत ही पसंद आई

बधाई हो आपको

अजय

नीरज गोस्वामी said...

दिल में चाहत है तो काँटों पे चला आएगा
आप पलकों को गलीचे सा बिछाते क्यों हो
मैंने ये शेर लिखा और अपनी ग़ज़ल को गलीचे सा बिछा दिया. देखिये न कितने चाहने वाले चले आए हैं. मैं इन सबका तहे दिल से शुक्र गुज़र हूँ. आप सब की हौसला अफ्जाही का नतीजा है की जेहन में आए ख्याल ख़ुद बा ख़ुद ग़ज़ल की शक्ल इख्तियार कर लेते हैं. ग़ज़लों में तकनिकी खराबी हो सकती है याने व्याकरण या मीटर अशुद्ध हो सकते हैं लेकिन भाव शुद्ध हैं.
नीरज

hemjyotsana said...

हम पर इतने किए उपकार सदा है माना
हम को हर बार मगर आप गिनाते क्यों हो... waah kya khoob likha hai
Adaerniye neeraj jee..
aaj aapki kai rachnaye padi, sabhi achi lagi par pratikriya aaj nhi kar paungi
par jaldi jarungi,
bahut sundar likhete hain aap

aur aapki pratikriya aaj aapne di thi use AneyTha lene ka koi swal hi nhi uthata mujhe to acha lagta hai jab koi meri kami batata hai.
koshish jaariye, abhi bahut sikhna baki hai
http://hemjyotsana.wordpress.com
Danyewaad